तुरंत लागू होने वाली टाइम मैनेजमेंट की 10 तरकीबें। - Tech and Gyan-इंडिया का श्रेष्ठ हिंदी ब्लॉग- Technology (तकनीक) और ज्ञान की बातें हिंदी में

Latest

तुरंत लागू होने वाली टाइम मैनेजमेंट की 10 तरकीबें।


quick-time-management-10-tricks



तुरंत लागू होने वाली टाइम मैनेजमेंट की 10 तरकीबें।


इस विषय पर चर्चा करना बहुत लंबा हो सकता है, पर यहां मैं अपनी बात को संक्षेप में कहने का प्रयास करूंगा। टाइम मैनेजमेंट का कितना महत्व है या यूं कहें कि समय की कितनी कीमत है, तो इसे रुपयों में बता पाना बहुत मुश्किल है। आप इस बारे में बहुत अच्छे से जानते हैं। इसलिए कहा भी गया है कि समय ही धन हैपरंतु यह तो सभी के लिए 24 घंटे का ही निर्धारित होता है। और आज के समय में यह हम अक्सर सुनते रहते हैं कि मेरे पास समय नहीं है। तो यहां मैं उन 10 बातों के बारे में चर्चा करूंगा जिसका प्रयोग तुरंत किया जा सकता है। इसके परिणाम भी अगलेेे दिन से ही देखने को मिल सकते हैं। यहां मैं ऐसी कोई बात नहीं करूंगा जिसको परिवर्तित करना लंबी प्रक्रिया का हिस्सा है जैसे टाइम मैनेजमेंट करने के लिए कार्य क्षमता को बढ़ाया जाए तो यह पूरी तरह सत्य है परंतु कार्य क्षमता को बढ़ाना यह अगले दिन से संभव नहीं है। यह एक लंबी प्रक्रिया है हां इसमें हम कुछ अपेक्षाकृत सुधार जरूर कर सकते हैं अतः मैं यहां केवल उन्हीं प्रक्रिया के बारे में बात करूंगा जो तुरंत लागू की जा सकती हैं। आइए चर्चा करते हैं।


1. रात को जल्दी सोएं व सुबह जल्दी उठे


एक सामान्य व्यक्ति के लिए 6 से 8 घंटे की नींद पर्याप्त है। यदि हम अपने लक्ष्य की तरफ जल्द अग्रसर होना चाहते हैं तो समय के सदुपयोग का सबसे पहला नियम है कि हम आवश्यकता से अधिक ना सोएं। यदि हम 7 घंटे की नींद भी मान लें तो 24 घंटे में इससे अधिक समय सोने के लिए ना दें। इसके अतिरिक्त अब बात यह आती है कि उन 24 घंटों में यह 7 घंटे कब दिए जाएं तो इसका सबसे अच्छा उपाय है हमारे पूर्वजों द्वारा दी गई सीख जो एक अंग्रेजी की कहावत से चरितार्थ होती है की अर्ली टू बेड एंड अर्ली टू राइज मैक्स ए मैन हेल्थी वेल्थी एंड वाइज (अर्थात रात को जल्दी सोना और सुबह जल्दी उठना एक व्यक्ति को स्वस्थ, धनी, और बुद्धिमान बनाता है)। अतः रात को जल्द से जल्द सोने का प्रयास करें और सुबह जल्द से जल्द उठने का प्रयास करें। अंततः इतना कहा जा सकता है कि 7 घंटे से अधिक सोना समय को बर्बाद करना है।


2. सुबह के नहाने की प्रक्रिया जल्द से जल्द करें


अक्सर हम सुबह जल्दी उठ तो जाते हैं और अन्य दैनिक कार्यों से निवृत्त हो जाते हैं परंतु नहाने का कार्य हम कई बार टाल देते हैं। या यूं कहें कि हम परिस्थिति के अनुसार इसके समय को परिवर्तित करते रहते हैं। जैसे यदि हमें कहीं 10:00 बजे जाना हो तो हम जल्दी नहा लेते हैं। परंतु हमें कहीं नहीं जाना हो तो हम कई बार 12:00 बजे 1:00 बजे या कई बार तो उससे भी अधिक देर के बाद नहाते हैं। इस आदत को तुरंत बदल दें और सुबह दैनिक कार्यों से निवृत्त होने के बाद नहाने की प्रक्रिया भी साथ के साथ ही निपटा लें। इससे आप स्वयं को विशेष अनुशासन में पाएंगे और आपके पास अन्य कार्य को करने के लिए पूरे दिन अधिक समय उपलब्ध रहेगा। यदि आप यह कार्य टालेंगे तो आपका शरीर एक अनकहे आलस्य में घिरा रहेगा और ऐसा लगेगा कि दिन भर का समय कम हो गया है। परंतु जल्दी नहाने के बाद आप महसूस करेंगे कि आपके पास पूरे दिन अपेक्षाकृत अधिक समय उपलब्ध है।


3. शाम का खाना जल्दी खाएं


शाम का खाना जल्द से जल्द खाने का प्रयास करें यह स्वास्थ्य की दृष्टि से भी उत्तम है तथा टाइम मैनेजमेंट के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। यदि आप शाम का खाना जल्दी खा लेते हैं तो शाम को आपके पास कुछ घंटे उपलब्ध होते हैं जिस कारण आप तसल्ली से बहुत सारे काम उस दौरान निपटा सकते हैं साथ ही आपके शरीर को खाने के बाद और सोने से पहले कुछ घंटों का अंतराल मिल जाता है जिससे नींद की गुणवत्ता बहुत बेहतर बनती है तथा कम सो कर भी हमारी नींद पूरी हो जाती है और पूरा दिन बिना आलस्य के व्यतीत होता है।

4. टीवी का प्रयोग बंद कर दें या न्यूनतम कर दे


टीवी को ईडियट बॉक्स भी कहा जाता है हम अपने जीवन का बहुत सारा समय टीवी देखने में बर्बाद कर देते हैं। जिसमें निरर्थक सीरियल्स और कई बार तो एक ही फिल्म को कई कई बार देख कर के समय बर्बाद करते हैं। इसको तुरंत बंद कर दे। यदि बहुत आवश्यक हो तो समाचार सुनने के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता है। परंतु ध्यान रखें आज के समय में केवल समाचार सुनने के लिए हमारे पास 100 से अधिक टीवी चैनल्स 24 घंटे उपलब्ध हैं जिस पर एक ही समाचार को कई घंटों तक दिखाया जाता है जो उनके प्रोफेशन की मजबूरी है, पर हमारे लिए उन्हें देखने की कोई मजबूरी नहीं है। हम पूरी तरह स्वतंत्र हैं। अतः कोई बेहतर न्यूज़ का समय निर्धारित करें और उस समय के अंदर आने वाले न्यूज़ को ही देखें। इसके अतिरिक्त आप निर्धारित ज्ञानवर्धक कार्यक्रम भी देख सकते हैं। इनके अतिरिक्त टीवी पर कुछ और देखना अर्थात अपने समय को बर्बाद करना है।


5. ना कहना भी सीखें


किसी की मदद करना बहुत अच्छी आदत है और हमें ऐसा करना भी चाहिए परंतु अपनी सीमाओं को लांघ कर अथवा अपना बहुत सारा समय देकर बार-बार सभी को किसी भी काम के लिए हां कहने की आदत का त्याग कर लेने में ही भलाई है। आप मुझे बिल्कुल भी गलत ना समझें।मैं किसी की सहायता करने के खिलाफ नहीं हूं।परंतु यह ध्यान रखा जाना बहुत आवश्यक है कि जिस व्यक्ति की मदद की जा रही है वह वास्तव में कितना जरूरतमंद है। और क्या यह काम केवल मेरे द्वारा ही किया जा सकता है यदि नहीं तो उस काम के लिए इंकार भी किया जा सकता है। अतः प्रत्येक को प्रत्येक काम के लिए हां कहने की आदत का त्याग करके जो काम बहुत अधिक समय की मांग करते हैं उनको ना कहने में ही भलाई है। ऐसा करने से हम बहुत सारा समय बचा सकते हैं।

6. मोबाइल व इंटरनेट का प्रयोग सीमित करें


आज के समय में लगभग सभी व्यक्तियों के पास मोबाइल फोन है जो उसका उपयोग कॉल करने के लिए अथवा इंटरनेट का प्रयोग मनोरंजन के लिए तथा बहुत सारे अन्य कार्यों को निपटाने के लिए करते हैं। परंतु कई बार निरर्थक ही हम अपना बहुत सारा समय मोबाइल पर बिता देते हैं। 

बेमतलब का मनोरंजन, सोशल नेटवर्किंग,चैटिंग आदि इसके लिए जिम्मेदार हैं। आज के समय में लोगों के मित्र वास्तविक जीवन में हो या ना हो परंतु सोशल मीडिया पर जरूर होते हैं और हम अपने पूरे दिन का बहुत सारा समय उनके बर्थडे विश करने में, उनकी फोटो की तारीफ करने में, अपनी तारीफ उनसे करवाने में खर्च कर देते हैं।इस आदत को बदलें। इंटरनेट को ऑन करने से पूर्व ही यह मन में सोच लें कि आप क्या करने जा रहे हैं और कितनी देर के लिए यह कार्य करेंगे। उसके पश्चात इंटरनेट को बंद कर दे। अपने मोबाइल फोन का इंटरनेट सदैव ऑन रखने की प्रवृत्ति छोड़ दें उस पर आने वाले नोटिफिकेशंस लगातार आपके मन को डायवर्ट करते हैं और आपको बिना बताए ही आपका बहुत सारा समय बर्बाद कर देते हैं।


7. 1 दिन पूर्व ही अगले दिन के लिए दिनचर्या निर्धारित करें


अक्सर हम सुबह उठते हैं दैनिक कार्यों से निवृत्त होते हैं उसके बाद क्या करना है हमें ठीक-ठीक समझ में नहीं आता। जिस कारण हम कई बार महत्वपूर्ण कार्यों को टालते चले जाते हैं और वह बाद में इतने मुश्किल हो जाते हैं कि उनको निपटाने के लिए उनके वास्तविक समय की तुलना में कई गुना समय अधिक देना पड़ता है।अतः पूरे दिन की दिनचर्या 1 दिन पूर्व ही बना लें और उसका कठोरता से पालन करें। ऐसा करने से महत्वपूर्ण कार्यों को पहले निपटाने की आदत बन जाएगी और हमारे पास भरपूर समय उपलब्ध रहेगा।


8. रायता फैलाने की आदत छोड़े


आपने यह कहावत तो जरूर सुनी होगी "रायता फैलाना" इसका अर्थ होता है किसी आसान काम को मुश्किल बना देना, उसको बिखेर देना। इस आदत को तुरंत बदले जाने की जरूरत है। कई बार हम अपने जीवन में छोटी-छोटी बातों को लेकर बहस में कूद पड़ते हैं और अपना समय बर्बाद कर देते हैं। कई बार हम काम करते हुए खाना खाते हुए गंदगी फैला देते हैं फिर उस गंदगी को साफ करने में अपना बहुत सारा समय व्यर्थ गंवा देते हैं। हमें अपनी जीवन जीने के तरीके में सुधार करने की जरूरत है साथ ही उस नियम को अपनाने की जरूरत है जिसमें कहा गया है प्रिवेंशन इस बेटर देन क्योर (इसका अर्थ है किसी बीमारी को होने से पहले सुरक्षा उपाय को अपना लेना)। पहले काम को फैला देना फिर उसे समेटने में समय बर्बाद करना, ऐसी आदतों को तुरंत बदले जाने की जरूरत है।

9. दिन भर में कम सेे कम आधे घंटे के लिए अपने शरीर को थकाएं


एक नजर में ऐसा करने से टाइम मैनेजमेंट कैसे होगा यह समझ नहीं आता परंतु ऐसा करने से हमें शारीरिक थकावट का एहसास होगा और जब हम रात को सोएंगे तो यह हमारी नींद की गुणवत्ता में सुधार करेगा। जिससे हमें अच्छी नींद आएगी और पूरा दिन बिना आलस्य के बीतेगा साथ ही कार्यक्षमता में भी सुधार होगा। वास्तव में आज के जीवन में हम सुबह से शाम तक ऐसे बहुत सारे कार्य करते हैं जिसमें बहुत अधिक मानसिक थकावट होती है परंतु शारीरिक थकावट वाले कार्य हम बहुत कम करते हैं। इसलिए आधे घंटे के लिए एक्सरसाइज करना चाहिए अथवा क्रिकेट, बैडमिंटन आदि खेल खेलना चाहिए।



10. समय बचाने वाली टेक्नोलॉजी का प्रयोग करें


वर्तमान में ऐसी बहुत सारी तकनीक उपलब्ध हैं जो जिनका प्रयोग समय बचाने के लिए किया जा सकता है। उदाहरण के लिए बिजली का बिल, पानी का बिल, इंटरनेट का बिल, मोबाइल रिचार्ज आदि के लिए तकनीक उपलब्ध है (उदाहरण के लिए गूगल पे, भीम यूपीआई, फोन पे, पेटीएम इत्यादि)। अतः इनका प्रयोग करना सीखने में अपना समय खर्च करें ताकि समय बचाने के लिए इनका प्रयोग किया जा सके। बैंक में पैसे डालने वाली मशीनें उपलब्ध हैं। उसी तरह से पैसा निकालने के लिए भी मशीनें उपलब्ध हैं। बैंक जाकर, लाइन लगाकर, अपना बहुत सारा समय खर्च कर इन कामों को निपटाने से अच्छा है कि इन मशीनों का प्रयोग किया जाए।


इस तरह की तकनीकों के अन्य बहुत सारे उदाहरण हैं जिनका प्रयोग कर समय बचाया जा सकता है। हम में से बहुत लोग इनका प्रयोग करते हैं पर बहुत सारे लोग किसी कारणवश इनका प्रयोग करने से बचते हैं या सीखना नहीं चाहते या कोई भय उनको सदा सताता रहता है। इस बदलती दुनिया में आज नहीं तो कल हमें यह सब सीखना ही होगा। इसे जितना टालेंगे, यह हमारी जिंदगी के बहुत सारे दिन घंटे महीने बर्बाद कर देगा। अतः इनको जल्द से जल्द सीख कर उपयोग करने में ही भलाई है।



अन्य आर्टिकल्स







No comments:

Post a Comment